Wednesday, November 02, 2016

दीन दाता दयालू दया कीजिए


दीन दाता दयालू दया कीजिए,
वरना दुनिया से हमको विदा कीजिए।

अपनी मर्जी से दुनिया में आए हम,
तूने भेजा बुलाया चले आए हम।
जनम देकर हमारी भी सुध लीजिए,
वरना दुनिया से हमको विदा कीजिए।
दीन दाता दयालू दया कीजिए,
वरना दुनिया से हमको विदा कीजिए।

मेरी टूटी है नैय्या भंवर में फंसी,
भंवर सागर की लहरों में लहरा रही।
पार कर सको तो बचा दीजिए,
वरना दुनिया से हमको विदा कीजिए।
दीन दाता दयालू दया कीजिए,
वरना दुनिया से हमको विदा कीजिए।

मेरे दाता किसी को गरीबी दे,
मौत दे दे मगर बदनसीबी ना दे।
बदनसीबी का कुछ तो जतन कीजिए,
वरना दुनिया से हमको विदा कीजिए।
दीन दाता दयालू दया कीजिए,
वरना दुनिया से हमको विदा कीजिए।

अपनी भक्ति में कर दे दीवाना मुझे,
चाहे पागल पुकारे जमाना मुझे,
अपने चरणों में मुझको जगह दीजिए।
वरना दुनिया से हमको विदा कीजिए।
दीन दाता दयालू दया कीजिए,
वरना दुनिया से हमको विदा कीजिए।



Post a Comment

कब आ रहे हो

" कब आ रहे हो ?" " अभी तो कुछ कह नही सकता। " " मेरा दिल नही लगता। जल्दी आओ। " " बस...