Monday, January 09, 2017

पीले ना गुरु नाल का जल

पीले ना गुरु नाल का जल,
सारे रोग मिट जायेंगे, गुरुदेव, गुरुदेव।

अमृत वाणी दीनी गुरु ने सफल किया जीवन मेरा।
ऐसे गुरु को दंडवत कीजे, सारे रोग मिट जायेंगे।
गुरुदेव, गुरुदेव।

गुरु ही शक्ति गुरु ही भक्ति गुरु ही श्रद्धा विश्वास है।
ऐसे गुरु को मन में बसा लो, सारे रोग मिट जायेंगे।
गुरुदेव, गुरुदेव।

गुरु ही अंदर गुरु ही बाहर गुरु जी मेरी सृष्टि है।
ऐसी अपनी दृष्टि बना लो, सारे रोग मिट जायेंगे।
गुरुदेव, गुरुदेव।

ऐसी मस्ती दीनी गुरु ने, खुद को मैं तो भूल गई।
तन मन धन अर्पण कर दूं मैं सारे रोग मिट जायेंगे।
गुरुदेव, गुरुदेव।


Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...