Friday, February 10, 2017

उर्दू अनुवाद

मेरी कहानी अखबार वालाका उर्दू अनुवाद श्री सबीर रजा रहबर (पटना से प्रकाशित उर्दू समाचार पत्र इनकलाब के संपादक) ने बिहार उर्दू अकादमी के लिए किया। कहानी उर्दू अकादमी की मासिक प्रतिका "जुबान ओ अदब"

के अक्टूबर अंक में प्रकाशित हुई।


Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...