Tuesday, March 14, 2017

होली


वो बचपन के अल्हड दिन देखे
अल्हड मस्ती भरे दिन देखे
बहाना होली का रंग भरे दिन देखे
पिचकारी और गुब्बारे के दिन देखे

बचपन में रंगों की मस्ती निराली
जो सामने दिखा चेप गुब्बारा की हालत निराली

अब बदली बदली सी फिजा है
हाथ में रंग हैं गुब्बारे हैं
नेताओं का डर सामने है

रंगों को चुटकी में बदरंग करते हैं
Post a Comment

विवाह उपरांत पढ़ाई

अनुप्रिया पढ़ने में होशियार थी। हर वर्ष स्कूल में प्रथम स्थान पर रहती थी। पढ़ाई के प्रति उसकी लगन कॉलेज में भी कम नही हुई। उसकी इच्छा दिल्ल...