Saturday, March 18, 2017

ससुराल


मैं तो छोड़ चली ससुराल के द्वार
अपना घर प्यारा लगे
मायके की पुरानी हो गई बात
अपना घर न्यारा लगे
सुहाये ननद जेठानी
मैं रानी पिया राजा लगे

मैं तो छोड़ चला अपना देश
ससुराल मुझे प्यारी लगे
सासूमां का छलकता प्यार
सालियां बहुत ही न्यारी लगे
उमड़ता आदर प्रेम भाव
सासूमां को मैं राजा लगे

जीत गया अब मैं चुनाव
मंत्री पद प्यारा लगे
सब ओर हो जय जय कार
नोटों की वर्षा न्यारी लगे
कर दिए घोटाले दो चार
अब तो ससुराल प्यारी लगे


Post a Comment

विवाह उपरांत पढ़ाई

अनुप्रिया पढ़ने में होशियार थी। हर वर्ष स्कूल में प्रथम स्थान पर रहती थी। पढ़ाई के प्रति उसकी लगन कॉलेज में भी कम नही हुई। उसकी इच्छा दिल्ल...