Monday, March 20, 2017

ईश्वर


ये कोमल हाथ तेरे
ये छोटे पैर मेरे
हमेशा रखते ख्याल मेरे
रक्षा करते हाथ तेरे
कठिन जोखिम से भरी ज़िन्दगी
आसान करते हाथ तेरे
दुर्गम पथ पार कर जाऊं मैं
सहारा देते हाथ तेरे
तुझ पर नमस्तक रहूं सदा

हे ईश्वर चरणों में रहूं तेरे
Post a Comment

अंत

"नयना क्या बात है फिर से सो गई?" नवीन ने सुबह की सैर से वापस आ कर नयना को बिस्तर पर लेटे देख कर पूछा। "नवीन बदन टूटा सा लग ...