Thursday, March 23, 2017

नमन

आओ नमन करें उन वीरों को
तन आजादी के लिये न्यौछावर किया
कभी भूलें उन वीरों को
हमारी रक्षा हेतु खुद को छलनी किया

कुछ सीख लो जयचंद की औलादों
चंद सिक्कों की खातिर गुलाम मत बनो
इतिहास गवाह है सुन लो गद्दारों
विदेशी ताकतों के गुलाम मत बनो

ज़िंदा रखो आजाद रहने की लालसा
एकता अखंडता की मिसाल बनो
रखो वीरों के वंशज बनने की लालसा

देश की खातिर मिटने की मिसाल बनो
Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...