Tuesday, March 14, 2017

कान्हा संग मनाये होली


एक हाथ में रंग हैं
कान्हा संग मनाये होली
दूसरे हाथ में फूल हैं
कान्हा संग मनाये होली
गोप गोपी बन जाएं हम
कान्हा संग मनाये होली
झूम झूम नाचे हम
कान्हा संग मनाये होली
बनाएं पकवान अनेकों हम
कान्हा संग मनाये होली
भोग हम चढ़ाएं हम
कान्हा संग मनाये होली
ग्वाल बाल बन जाएं हम
कान्हा संग मनाये होली
राधा बन जाएं हम
कान्हा संग मनाये होली
प्रीत मीरा जैसी करें हम
कान्हा संग मनाये होली



Post a Comment

दस वर्ष बाद

लगभग एक वर्ष बाद बद्री अपने गांव पहुंचा। पेशे से बड़ाई बद्री की पत्नी रामकली गांव में रह रही थी। बद्री के विवाह को दो वर्ष हो चुके थे। विवा...