Tuesday, March 14, 2017

तमाशा

दुनिया खुद है एक तमाशा
चुनाव सबसे बड़ा तमाशा
उफ़ नहीं होता अब सब्र
कब शुरू होगा अगला तमाशा


Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...