Tuesday, March 07, 2017

गुमनाम

निकला था घर से कुछ नाम कमाने के लिए
बोझ के तले दबता गया नाम कमाने के लिए
हंसता रहा गुमनाम हो कर दुनिया की भीड़ में
एक ज़िंदा लाश बन गया नाम कमाने के लिए


Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...