Tuesday, March 07, 2017

गुमनाम

निकला था घर से कुछ नाम कमाने के लिए
बोझ के तले दबता गया नाम कमाने के लिए
हंसता रहा गुमनाम हो कर दुनिया की भीड़ में
एक ज़िंदा लाश बन गया नाम कमाने के लिए


Post a Comment

कब आ रहे हो

" कब आ रहे हो ?" " अभी तो कुछ कह नही सकता। " " मेरा दिल नही लगता। जल्दी आओ। " " बस...