Saturday, April 01, 2017

मानवता

हमारा वोट उनकी चोट, यह कैसी मानवता
वीरों का तिरस्कार, यह कैसी मानवता
गदारों को पुरस्कार, यह कैसी मानवता
जात धर्म का भेदभाव, यह कैसी मानवता
गरीबों को शिक्षा नही, यह कैसी मानवता
गरीबों को इलाज नही, यह कैसी मानवता
सब अधिकार नेताओ के, यह कैसी मानवता
इंसान बनना छोड़ दिया, यही आज की मानवता



Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...