Saturday, April 01, 2017

मानवता

हमारा वोट उनकी चोट, यह कैसी मानवता
वीरों का तिरस्कार, यह कैसी मानवता
गदारों को पुरस्कार, यह कैसी मानवता
जात धर्म का भेदभाव, यह कैसी मानवता
गरीबों को शिक्षा नही, यह कैसी मानवता
गरीबों को इलाज नही, यह कैसी मानवता
सब अधिकार नेताओ के, यह कैसी मानवता
इंसान बनना छोड़ दिया, यही आज की मानवता



Post a Comment

दस वर्ष बाद

लगभग एक वर्ष बाद बद्री अपने गांव पहुंचा। पेशे से बड़ाई बद्री की पत्नी रामकली गांव में रह रही थी। बद्री के विवाह को दो वर्ष हो चुके थे। विवा...