Monday, April 24, 2017

नेता

गली छानी शहर ढूंढा देश विदेश देखा
चाह है मुलाकात हो एक इंसान से
इंसान लुप्त हो गया है शायद
मुलाकात हो गई एक नेता से
लोगों को बांटते अपने स्वार्थ में लिप्त
मुलाकात हो गई अनेक नेताओं से
अभिनय मे माहिर मंत्रमुग्ध करते नेता
सिनेमा के अभिनेता अभिनय सीखते नेताओं से
थूक कर चाटते पल पल स्वार्थ में नेता
हम हास्य सीख रहे हैं नेताओं से


Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...