Monday, April 03, 2017

पाप-पुण्य

एक साथ चलते चलते पाप पुण्य जुदा हो गए शायद
चोरी मेरे लिए पाप है चोर का पुण्य शायद
घोटाला मेरे लिए पाप है नेताओं का पुण्य शायद
हक मारना मेरे लिए पाप है अमीरों का पुण्य शायद
जोड़ों को जुदा करना मेरे लिए पाप है उनका पुण्य शायद
झूठ फरेब मक्कारी मेरे लिए पाप है उनका पुण्य शायद
पवित्र विवाह तोड़ना मेरे लिए पाप है तीन तलाक पुण्य शायद
हिंसा घृणा मेरे लिए पाप है मज़हबिओं का पुण्य शायद


Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...