Friday, April 14, 2017

घरौंदा

एक छोटा सा घरौंदा था
जिसमें बचपन गुजारा था
सब मिल कर खेला करते थे
डांट खाने पर पढ़ा करते थे
भाई बहन रिश्तेदार सब मिलते थे
जीवन को हसीन बनाते थे

छोटा घरौंदा अब बड़ा हो गया है
दिल और रिश्ता सिकुड़ गया है
अब कहां भाई बहन रिश्तेदारों का मिलना
अब कहां मिल कर मस्ती करना
याद गई बचपन में दीवार पर की चित्रकारी
उठाई बच्चों की पेंसिल और कर दी दीवार पर कलाकारी


Post a Comment

अनाथ

चमेली को स्वयं नही पता था कि उसके माता - पिता कब गुजरे। नादान उम्र थी उस समय चमेली की सिर्फ चार वर्ष। सयुंक्त परिव...