Friday, May 12, 2017

गुलाब

जीवन एक गुलाब है
गुलाब जैसे अनेक रंग है
जैसे इसके रंग अनेक
हमारी पसंद अनेक
गुलाब की तरह खिलता है जीवन
हर कोई चाहता है गुलाब सा महकना
सबका आसक्त है जीवन
गुलाब जैसे मुरझाता है जीवन
खुशबु जीवन का सुख है
कांटे जीवन के दुःख है


Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...