Tuesday, May 16, 2017

न करो

करो गिला औरों से
करो शिकवा औरों से
करो तुलना औरों से
रखो आस औरों से

अपनों से शिकायत क्यों
अपनों से बेगानापन क्यों
अपनों से नफरत क्यों
अपनों से दूरी क्यों

खुद में विश्वास रखो
कल में आस रखो
कर्म की चाह रखो

फल की राह रखो
Post a Comment

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी

हुए हैं जब से शरण तुम्हारी , खुशी की घड़ियां मना रहे हैं करें बयां क्या सिफ़त तुम्हारी , जबां में ताले पड़े हैं। सु...