Friday, May 19, 2017

नादान

नादान दिल था तुझ संग प्रीत लगा ली
सुनी मन की बात तुझ संग चल दी
रास आई यह जिंदगी कुछ नही
नादान दिल को समझाया कुछ नही
कुछ रुकी हुई चाह अभी हैं बाकी
तुझ संग मिलने की आस है बाकी
फिर से मौसम बहार का आएगा

नादान दिल फिर से बहल जाएगा
Post a Comment

मौसम

कुछ मौसम ने ली करवट दिन सुहाना हो गया रिमझिम बूंदें पड़ने लगी आषाढ़ में सावन आ गया गर्म पानी भाप बन कर उड़ गया ...