Saturday, May 20, 2017

अफवाह


गुमनाम सी जिंदगी गुजार रहा था
एक अफवाह उडी मैं मशहूर हो गया
तुम जो आई मेरे जीवन में
फूल वादियों में खिल उठे
वो कौन है जो अफवाह उडाता है
दो हंसों के जोड़े को अगल कर जाता है
खता कुछ नही बस अफवाह का शिकार हो गए
अफवाह के संग उड़ते बहुत दूर हो गए


Post a Comment

मौसम

कुछ मौसम ने ली करवट दिन सुहाना हो गया रिमझिम बूंदें पड़ने लगी आषाढ़ में सावन आ गया गर्म पानी भाप बन कर उड़ गया ...