Friday, May 05, 2017

साया

मेरा साया मेरे संग है फिर क्या गम है
कभी छोटा कभी बड़ा फिर क्या गम है
धूप में भी देता साथ फिर क्या गम है
तन्हाई में भी संग है फिर क्या गम है

रिश्ते नाते छोड़ गए साया ही संग है
मुसीबत में हौसला देता साया ही संग है
खुशियों में नाचता साया ही संग है
अंतिम सांस तक साथ निभाता साया ही संग है


Post a Comment

मौसम

कुछ मौसम ने ली करवट दिन सुहाना हो गया रिमझिम बूंदें पड़ने लगी आषाढ़ में सावन आ गया गर्म पानी भाप बन कर उड़ गया ...