Friday, June 30, 2017

ऐ मेरे सद्गुरु

मेरे सद्गुरु प्रणाम बार-बार
होंठों पर हो आपका ही नाम बार-बार।
चरणों में हो मन सदा, चरण हो मंजिल सदा
हे दयालु भक्ति का दे दान।

मेरे दाता आपने क्या नही दिया हमें
धन्य-धन्य आपको प्रणाम बार-बार
मेरे सद्गुरु प्रणाम बार-बार
होंठों पर हो आपका ही नाम बार-बार।

सोये जग को फिर जगाने
आये हो गुरुवर सदा, भक्ति में मन को लगाना नाथ।
बार-बार ही जन्म, हर जन्म में आप हम
यूं ही हमको देना आओ ज्ञान बार-बार।
मेरे सद्गुरु प्रणाम बार-बार
होंठों पर हो आपका ही नाम बार-बार।

चांदनी का दीप लेकर, थाल फूलों से सजा
आरती हम आपकी करे रोज।
मेरे सद्गुरु प्रणाम बार-बार

होंठों पर हो आपका ही नाम बार-बार।
Post a Comment

ईदी

छुट्टी के दिन वो ईदी ले गए उड़न खटोले से हम कोलकता पहुंच गए कुछ अवकाश से फुरसत के पल मिल गए कुछ पर्यटन के स्थल देखे गए अकेले घूमते थक से...